193 News

News

उज्जैन: नगर निगम की प्रशासकीय मुखिया होने की हैसियत से नगर हित एवं जनहित में शासन की मंशा को क्रियान्वित कराना मेरी प्राथमिकताओं में है, लिहाज़ा नगर निगम का कोई भी कार्य मेरे संज्ञान में लाए बिना ना किया जाए । और याद रहे मुझे अपने निर्देशों की अवहेलना किसी भी दशा में गवारा नहीं । यह निर्देश हैं आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल के । अपनी पहली टीएल बैठक में आयुक्त ने बहुत ही साफ और स्पष्ट शब्दों में नगर निगम के समस्त अधिकारियों और कर्मचारियों को बता दिया है कि वे निगम में किस प्रकार की प्रशासकीय व्यवस्था चाहती हैं । सुश्री प्रतिभा पाल ने कहा कि नगर निगम एक संस्था है जिसका कमाण्डर/प्रशासकीय मुख्यिा एक ही होता है जिसके निर्देशों पर पूरी संस्था अपने कर्तव्यों का निर्वहन करती है । मैं जब तक इस संस्था की मुखिया हूं मैं चाहूंगी कि यहां का प्रत्येक कार्य मेरी प्रशासकीय स्वीकृति एवं मेरे संज्ञान के पश्चात हो। मुझे बताए बिना कोई भी कार्य किसी भी दशा में नहीं होगा । इन स्पष्ट निर्देशों की जो अधिकारी कर्मचारी अवहेलना करते पाए जाएंगे उनके विरुद्ध संख्त अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी । किस अधिकारी / कर्मचारी से क्या कार्य लिया जाना है उसका निश्चिय भी मेरे द्वारा किया जाएगा । अधिकारी कर्मचारी स्वयं अपनी इच्छा अनुसार विभाग या पद पाने हेतु प्रयास ना करें, मुझे जिसकी जहां आवश्यकता होगी उसका वहां उपयोग किया जाएगा । निर्माण एवं विकास कार्र्याे के पूर्ण प्रस्ताव प्रेषित किये जाएं अधूरे नहीं अर्थात किसी भी बड़े कार्य के टुकड़े करके एक एक लाख की सीमा के प्रस्ताव तैयार करना ठीक नहीं । अब यदि किसी के द्वारा ऐसा किया गया तो उसके विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी । विभाग प्रमुख सुनिश्चित करें कि आवश्यकतानुसार सामूहिक टेण्डर आमंत्रण किये जा कर कार्य कराए जा सकें । सी.एम. हेल्प लाईन की शिकायतों का समाधान सर्वोच्च प्राथमिकता में रखा जाए । सभी विभाग लेव्हल एक पर ही सन्तोषजनक समाधान सुनिश्चित करें । प्रकाश विभाग, स्वास्थ विभाग, भवन निर्माण विभाग और राजस्व विभाग से सम्बंधित शिकायतें अधिक रहती हैं । यह समस्त विभाग सुनिश्चित करें कि हर हाल में प्रत्येक शिकायत का निराकरण और सन्तोषजनक समाधान 3 दिवस में कर दिया जाए। जनसुनवाई में आने वाले किसी भी व्यक्ति को दोबारा निगम में आने की आवश्यकता ना हो । जनसुनवाई के आवेदनों का निराकरण भी प्राथमिकता के साथ किया जाए । सीएम हल्प लाईन और जनसुनवाई में प्राप्त शिकायतों के सम्बंध में सम्बंधित अधिकारी आवेदनकर्ता/शिकायतकर्ता से प्रत्यक्ष सम्पर्क कर समाधान सुनिश्चित करते हुए उसे सन्तुष्ट करें ।

newsimage

Photo

newsimage