226 News

News

उज्जैन: असंगठित क्षैत्र से सम्बद्ध श्रमिकों के पंजीयन सम्बंधी कार्यवाही की समीक्षा बैठक में आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल ने अत्यन्त ही गंभीर और कड़े शब्दों में निर्देशित किया है कि प्रतिदिन 23 सौ पंजीयन अनिवार्यतः अपेक्षित हैं । इस संख्या में वृद्धि तो सराहनीय होगी किन्तु कमी गवारा नहीं। गुरुवार को आयोजित समीक्षा बैठक में आयुक्त सुश्री पाल ने झोनवार झोनल अधिकारियों से प्राप्त आवेदनों एवं किये गए पंजीयन सम्बंधी जानकारी प्राप्त की । जो जानकारी प्रस्तुत की गई उस पर आयुक्त ने असन्तोष प्रकट करते हुए सम्बंधित अधिकारियों को प्रति नाराजगी प्रकट की । आपने निर्देशित किया कि अब तक के जितने भी लम्बित आवेदन हैं उनका पंजीयन हर हालत में शनिवार शाम तक पूर्ण कर लिया जाए। इसी के साथ ही नए आवेदनों का पंजीयन 24 घंटे से अधिक समय तक लम्बित न रखते हुए तत्काल पंजीयन सुनिश्चित किया जाए । झोन में प्राप्त आवेदनों का पंजीयन झोनल आपरेटर्स स्वयं करें । इसी के साथ ही मुख्यालय से सम्बद्ध जो 23 आपरेटर्स हैं वे औसतन 100 प्रति आपरेटर के मान से कुल 23 सौ पंजीयन प्रतिदिन अनिवार्यतः करें । इन निर्देशों की अवहेलना किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं की जाएगी । उल्लेखनीय होगा कि श्रमिकों के पंजीयन को आसान बनाने के लिये गत एक माह में आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल ने अनेक उपाय किये हैं, जिसके अन्तर्गत आपने झोनवार दल गठित कर विशेष शिविर आयोजित किये, झोन कार्यालयों में नियमित रुप से पंजीयन सुविधा उपलब्ध कराई तथा झोन स्तर पर ही विभिन्न कर्मचारियों को श्रमिक बस्तियों एवं श्रमिकों के एकत्र होने के स्थानों सराय इत्यादि में जा कर श्रमिकों से सम्पर्क स्थापित करते हुए पंजीयन हेतु प्रेरित करने की कार्यवाहियां शामिल हैं । आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल ने कहा कि शासन ने श्रमिकों के हितार्थ अनेक योजनाएं संचालित की हुई हैं, जिसमें सस्ते दर पर बिजली उपलब्ध कराए जाने की योजना भी प्रचलित है, जिसका श्रमिक लाभ लेना चाहते हैं, हमें श्रमिकों के हित में प्रयास करना चाहिए कि कोई भी श्रमिक इन योजनाओं का लाभ लेने से वंचित न रहे । बैठक में अपर आयुक्त श्री संजय मेहता, उपायुक्त श्री सुनिल शाह, सहायक आयुक्त श्री प्रदीप शर्मा के साथ ही विभिन्न झोनल अधिकारी इत्यादि सम्मिलित रहे।

newsimage

Photo

newsimage