231 News

News

उज्जैन: आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल ने सीएम हेल्प लाईन से सम्बंधित शिकायतों का सन्तोषजन समाधान सुनिश्चित करने के लिये ग्राण्ड होटल पर आयोजित बैठक में विभिन्न प्रकार के गुर सिखाते हुए निर्देशित किया कि इस कार्य के प्रति गंभीरता से काम लें अन्यथा लापरवाही के परिणाम ठीक नहीं होंगे । ग्राण्ड होटल पर आयोजित प्रशिक्षण बैठक में आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल ने सीएम हेल्प लाईन में निगम से सम्बंधित शिकायतों का अध्ययन करते हुए इन शिकायतों का तत्समय समाधान दर्ज न कराने वाले अधिकारियों के प्रति नाराजगी ज़ाहिर की । अनेक शिकायतों के सम्बंध में यह स्थिति सामने आई कि शिकायत का तत्समय निराकरण तो कर दिया गया किन्तु पोर्टल पर समाधान दर्ज न करने के कारण शिकायत यथावत रही । आयुक्त ने दिये निर्देश आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल ने निर्देशित किया कि: 0 एल.1 अधिकारी प्रति दिन नियमित रुप से सुब्ह शाम सीएम हेल्प लाईन पर स्वयं से सम्बंधित शिकायतों को देखें । 0 सबसे पहले शिकायत को पढ़ा जाए, समझा जाए और शिकायतकर्ता से चर्चा कर वह क्या समाधान चाहता है इस पर बात की जाए । 0 शिकायत का जितनी जल्दी संभवन हो निराकरण किया जा कर शिकायतकर्ता को बताया जाए और उसे शत प्रतिशत सन्तुष्ट करने के प्रयास किये जाएं । 0 याद रखें कि शिकायत के निराकरण के साथ ही उससे अधिक महत्वपूर्ण यह है कि शिकायतकर्ता सन्तुष्ट हो, क्योंकि समाधान में बेहतर स्थान तब ही प्राप्त हो सकता है जब सन्तुष्टि का प्रतिशत बेहतर हो । 0 जो शिकायतें निगम के अन्य किसी विभाग की हो कर असम्बद्ध अधिकारी को प्राप्त हो जाती हैं उनके सम्बंध में टालमटोल के बजाय परस्पर तालमेल के साथ निराकरण कराने और उस निराकरण को पोर्टल पर दर्ज कराने के प्रयास करें । 0 मांग और शिकायत के अन्तर को समझें । शिकायत के नाम पर यदि कोई मांग की जाती है, कोई सुझाव या प्रस्ताव दिया जाता है तो उसे शिकायत न माना जा कर मांग के काॅलम में स्थानान्तरित कर दिया जाए । 0 स्वास्थ विभाग से सम्बंधित शिकायतें बहुत अधिक होती हैं, इस विभाग को चाहिए कि वे समाधान में सन्तुष्टि का प्रतिशत 90 से 100 प्रतिशत तक करे । 0 पीएचई से सम्बंधित शिकायतें अब भी बड़ी संख्या में लम्बित हैं । सम्बंधित अधिकारी को नोटिस दे कर स्पष्टिकरण लिया जाए और तत्काल समाधान सुनिश्चित कराया जाए । आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल ने कहा कि यदि सम्बंधित अधिकारी प्रथम स्तर पर ही शिकायतकर्ता से मिल कर उसे समझ लें और सकारात्मकता के साथ सौहार्दपूर्ण तरीके से व्यवहार करते हुए शिकायत का समाधान कर उसे सन्तुष्ट करने के प्रयास करें तो अधिकांश शिकायतें आरंभिक स्तर पर ही सन्तुष्टि के साथ समाप्त हो सकती हैं ।

newsimage

Photo

newsimage