545 News

News

विभिन्न विभागों की बैठक में आयुक्त के सख्त निर्देश उज्जैन: सम्पत्ति कर हो, दुकानों का किराया हो, विज्ञापन शुल्क हो या बाजार वसूली, इसके लिये अनुरोध या विनती करने की आवश्यकता नहीं है । कर और शुल्क कानून द्वारा प्रदत्त शक्तियों के साथ वसूल किये जाना चाहिए । निगम के सम्बंधित अधिकारी निगम हित में अपने अधिकारों का स्वतंत्रता के साथ उपयोग करते हुए वसूली शत प्रतिशत सुनिश्चित करें । यह निर्देश आयुक्त प्रतिभा पाल ने दिये हैं । नगर निगम के विभिन्न विभागों की समीक्षा करते हुए आयुक्त ने जब सम्पत्ति कर वसूली की समीक्षा की तो आपने पाया कि टेक्स वसूली में अपेक्षित परिणाम प्राप्त नहीं हो पा रहे हैं । इस पर आयुक्त ने समस्त झोनल सहायक सम्पत्ति कर अधिकारियों को निर्देशित किया कि वसूली प्रक्रिया में पाई जाने वाली कमियों का दूर करें और सर्वप्रथम स्वयं यह समझ लें कि सम्पत्ति कर जमा कराना स्वयं भवन भू स्वामी का दायित्व है। जो लोग कर जमा नहीं कराते उनके साथ निगम नरमी बरते हुए उन्हें जागृत करता है, सम्पत्ति कर में छूट प्रदान की जाती है और कई माह तक प्रतीक्षा करते हुए कर जमा कराने के अवसर प्रदान किये जाते हैं । इसके पश्चात भी जो लोग कर जमा नहीं कराते उनसे और अधिक अपील या अनुरोध करने के बजाय वसूली हेतु सख्त कार्यवाही की जाना चाहिए । आयुक्त प्रतिभा पाल ने निर्देशित किया कि सम्पत्ति कर के दर्ज रेकार्ड का स्थल की वास्तविकता के मान से निरीक्षण किया जाए। समस्त सम्पत्तियों के वास्तविक क्षैत्र की नप्ती की जाए और भवन स्वामियों द्वारा प्रस्तुत विवरणी से मिलान किया जा कर यह देखा जाए कि सम्पत्ति कर कम तो नहीं जमा किया जा रहा है । यदि सम्पत्ति के वास्तविक क्षैत्र और प्रस्तुत विवरणी में अन्तर पाया जाए तो नियमानुसार 5 गुना तक जुर्माना करते हुए वास्तविक वसूली की जाए । जो सम्पत्तियां अब तक निगम रेकार्ड में दर्ज नहीं हैं उन्हें तलाश करें , नप्ती करंे और नियमानुसार सम्पत्ति कर वसूली के बिल जारी करें । इसी प्रकार केन्द्र शासन की सम्पत्तियों का भी सर्वे किया जा कर सम्बंधित विभाग को बिल जारी किया जाएं । आयुक्त प्रतिभा पाल ने बाजार वसूली की स्थिति पर भी सख्त नाराजगी जाहिर की और कहा कि निगम सम्पत्ति का किराया तथा बाजार वसूली कार्य को भी गंभीरता से लिया जाए और यह वसूली भी शतप्रतिशत सुनिश्चित की जाए। किसी भी प्रकार के दबाव में ना आएं और वसूली सम्बंधी कार्य को सर्वोच्च प्राथमिकता पर रखा जाए। आयुक्त प्रतिभा पाल ने नई विज्ञापन नीति के तहत विज्ञापन रजिस्ट््रेशन कार्य 30 मई तक पूर्ण करने के निर्देश दिये । आपने कहा कि विज्ञापन शुल्क वसूली कार्य को भी सम्पत्ति कर की भांति सर्वोच्च प्राथमिकता में रख कर कार्य किया जाना चाहिए ताकि विज्ञापन शुल्क के माध्यम से निगम की आय में उल्लेखनीय वृद्धि हो सके । आयुक्त प्रतिभा पाल ने निगम अधिकारियों और कर्मचारियों से कहा है कि यह शहर आपका है , यह संस्था आपकी है, इसके हितों को सर्वोपरि रखते हुए अपने कर्तव्यों का निर्वहरन करें । स्वयं यह सुनिश्चित करें कि आपकी भूमिका से किसी भी स्थिति में निगम को हानि नहीं हो कर लाभ प्राप्त होगा । कर और शुल्क वसूली कार्य भी इसी मंशा के साथ करें । पथ प्रकाश व्यवस्था की समीक्षा करते हुए आयुक्त प्रतिभा पाल ने निर्देशित किया कि प्रभारी प्रकाश नियमित रुप से रात्रि में विभिन्न क्षैत्रों का निरीक्षण करें और बन्द लाईटें पाई जाने पर उन्हें तत्काल दुरुस्त कराया जाए । आपने बिजली के बिल भुगतान पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि इस खर्च में कमी लाए जाने के लिये आवश्यक है कि एवरेज बिलों के भुगतान ना किये जाएं, मीटर संख्या में कमी की जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि दिन के समय में अनावश्यक रुप से लाईट चालू ना रहे ।

newsimage

Photo

newsimage