599 News

News

उज्जैनः इस बार के स्वच्छता सर्वेक्षण का मुख्य आधार गीला और सूखा कचरा पृथकीकरण संग्रहण एवं उसका व्यवस्थित निपटान है। निगम इस दिशा में अत्यन्त गंभीरता के साथ कार्य करते हुए अपने लक्ष्य को प्राप्त करना चाहता है इसलिये इस कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नही की जाएगी। यह बात आयुक्त प्रतिभा पाल ने निगम की समस्त अनुबंधित संस्थाओं और स्वास्थ्य अमले को सचेत करते हुए कही। इसी क्रम में नगर निगम द्वारा अनुबंधित कम्पनी ग्लोबल वेस्ट मेनेजमेंट द्वारा कार्य में लापरवाही बरतने तथा निर्धारित शर्तों का पालन न करने के कारण आयुक्त प्रतिभा पाल ने ग्लोबल के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करते हुए राशि रूपये 40 हजार का जुर्माना किया। गुरूवार को आयुक्त ने निगम के ट्रांसफर स्टेशनों सहित विभिन्न वार्डों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान आपने पाया कि वार्ड क्रं. 12 में निर्धारित समय अनुसार कचरा कलेक्शन वाहन नही पहुंच रहा है व वार्ड क्रं. 23 में भी कचरा वाहन समय पर न पहुंचने की शिकायत मिली तथा वाहन पर तैनात कर्मचारियों के पास सुरक्षा उपकरण भी नही पाए गए। वार्ड क्रं. 32 में शिकायत मिली की इस वार्ड में भी वाहन समय पर नही आता है तथा निरीक्षण के दौरान वाहन में स्वच्छता का आॅडियो गीत भी बंद पाया गया। वार्डों के साथ ही आयुक्त जब गउघाट ट्रांसफर स्टेशन पहंुची तो आपने देखा कि हर ओर गंदगी फैली हुई थी, वाहन और अन्य उपकरण भी अत्यन्त ही गंदी अवस्था में थे तथा कार्यरत कर्मचारी बिना युनिफाॅर्म में होकर उनके पास ग्लब्ज और मास्क भी नहीं पाए गए। आयुक्त प्रतिभा पाल ने इस लापरवाही को निर्धारित अनुबंध की शर्तो का घोर उल्लंघन मानते हुए इसे स्वच्छता सर्वेक्षण के प्रयासों के विपरीत माना और ग्लोबल वेस्ट मेनेजमंेट पर राशि रूपये 40 हजार का जुर्माना किया। जुर्माने के साथ ही ग्लोबल को सचेत करते हुए सूचित किया कि शहर के सभी वार्डो में कचरा कलेक्शन वाहन निर्धारित समय अनुसार चलाए जाकर प्रत्येक वार्ड में प्रत्येक घर से शत प्रतिशत कचरा संग्रहण कार्य करें। गीला और सूखा कचरा पृथक-पृथक प्राप्त करें, और कचरा पृथकीकरण के साथ संग्रहित कचरा निर्धारित स्थानों पर पहुंचाए। कर्मचारियों को निर्धारित यूनिफाॅर्म में सुरक्षा उपकरणों के साथ कार्य पर तैनात करें। आयुक्त प्रतिभा पाल ने सख्त लेहजे में स्पष्ट कर दिया है कि अब भी यदि ग्लोबल द्वारा अपने कार्य में सुधार नही किया जाता है तो और सख्त कार्यवाही की जाएगी, जिसके लिये ग्लोबल की स्वयं की जिम्मेदारी होगी। कार्यवाही की यह प्रक्रिया 31 अक्टूबर तक जारी रहेगी। यदि कार्य में अपेक्षित सुधार नही हुआ तो 1 नवम्बर से ग्लोबल को कार्यमुक्त कर दिया जाएगा।

newsimage

Photo

newsimage